Thursday, 17 November 2016

Love Hai Yaar sells more ticket than Force 2 & Tum Bin 2 in Inox Udaipur

Love Hai Yaar , produced & directed by ViNit Talesara which releases today along with Force 2 & Tum Bin2 has surpassed the other releases in selling tickets in Inox Udaipur.

The film which is a rom com has a new starcast, has sold out 50% tickets where as the tickets for Force 2 & Tum Bin 2 5℅. Even with the financial state in India, the tickets being sold at this rate for a movie with new comers just shows how the audience is excited for fresh content.

Love Hai Yaar hits the theatre today, 18th November, has been released by Utpal Shyam Chaudhary, Purvi Media Network Pvt Ltd.

Friday, 23 October 2015

Tuesday, 13 October 2015

मैं और चाल्र्स - ऋचा चड्ढा से बातचीत

ऋचा चड्ढा से बातचीत
क्या अब आपका संघर्ष खत्म हो गया है ?
संषर्ष तो अब भी चल रहा है। बस उसका रूप बदल गया है।  पहले ऑटो से संघर्ष कर रही थी और अब अपनीगाड़ी से करती हूं। पहले फिल्म पाने के लिए भाग दौड़ कर रही थीअब अपने काम को नया आयाम देने में श्रमलगा रही हूं। फिल्म इंडस्ट्री में होना मतलब लाइफ टाइम के लिए संघर्ष में होना है। इसलिए ऐसा नहीं कह सकतीकि कुछ फिल्मों की सफलता और प्रशंसा के बाद मेरा संघर्ष खत्म हो गया है। यहां हर फ्राइडे के बाद करियर काभविष्य निर्धारित होता है।
आपकी पहचान टुकड़ों में हुई है। बीच के समय में हौसला कैसे बनाए रखा ?
- 'ओए लकी  लकी ओएऔर 'गैंग्स ऑफ वासेपुरके बीच चार साल का गैप है। उसमें २००८ से २०१० तक कासमय मेरे लिए काफी मुश्किलों भरा रहा। मेरे पास कोई काम नहीं था। उस दौरान मैंने अपने अंदर के कलाकार कोजिंदा रखने के लिए थियेटर कियेनाटक किये। किसी काम को पाने का हौसला बनाये रखने के लिए सबसे जरूरीहै कि उसमें आपकी रुचि लगातार बनी रहे। इसके अलावा आपकी हॉबिज और आपसे जुड़े लोगों की भी भूमिकामहत्वपूर्ण होती हैजिससे आप निराशा में जाने से बच जाते हैं। मेरे मुश्किल दिनों में मेरे परिजनों का बड़ा सहयोगरहा। पैसे कम होने पर पैसे भेजेमुझसे बातचीत में उन्हें कभी लगता था कि मैं  कुछ निराश हूंतो वो मुंबई जाते थे।



'मैं और चाल्र्सकैसी फिल्म है ?
ये एक थ्रिलर फिल्म है। क्रिमिनल चाल्र्स की कहानी है कि कैसे वो लॉ स्टूडेंट मीरा की मदद से दोचार कैदियोंके साथ देश की सबसे सुरक्षित जेल तिहाड़ से भाग जाता है। उसके बाद पुलिसकर्मी अमोल चाल्र्स की जिंदगी मेंभाग दौड़ शुरू करता है। चाल्र्स गोवा में पकड़ा जाता है और फिर मुंबई में उसका सामना अमोल से होता है। इसमेंयही दिखाया गया है कि कैसे घटनाओं की प्लाटिंग और उन्हें अनकवर किया गया है। मैं मीरा बनी हूं और चाल्र्सका किरदार रणदीप हुड्डा निभा रहे हैं।
ग्लैमर इंडस्ट्री में होकर भी ग्लैमरस हीरोइन की पहचान ना होने को लेकर कभी कसक होती है ?
हांकभी-कभी ये कसक उठती है। इसकी वजह ये है कि ग्लैमरस रोल की फिल्में करने के कारण आपके पासकमाई करने के कई रास्ते  जाते हैं। कई शोजअपियरेंस के मौके मिलते हैं। ऐसा नहीं है कि मैं ग्लैमरस रोल कीफिल्में बिल्कुल ही नहीं कर रही हूं। लेकिन उसको लेकर बहुत बेचैन नहीं हुई जा रही हूं। 'मसानकी सफलता केबाद कई लोगों ने मुझसे पूछा कि आप बड़े बजट की कमर्शियल फिल्में क्योंनहीं करतीं। मैं उन सभी से कहनाचाहती हूं कि 'मसानजैसी मीनिंगफुल अच्छी फिल्में और करना चाहूंगी।
जब पहली बार अभिनेत्री बनने का ख्याल आयातो क्यावो ग्लैमर का आकर्षण था ?
बचपन से ही मुझे लग रहा था कि मैं अभिनेत्री बनने के लिए ही बनी हूं। मेरे मन में आकर्षण ग्लैमर को लेकर नाहोकर सिनेमा को लेकर था कि वो कौन सी बात हैजो बनावटी होते हुए भी इतना असरदायी है। ये बच्चे से लेकरबड़े तक सभी जानते हैं कि जो पर्दे पर दिख रहा हैवह बनाया हुआ है। फिर भी सभी उससे जुड़ जाते हैं।
फिल्म इंडस्ट्री में कभी ठगे जाने का अहसास हुआ ?
— हांये अहसास कई तरह के हैं। जैसे कुछ लोगों ने कोई काम देने का भरोसा देकर लटकाए रखा,

Monday, 12 October 2015

प्यार का पंचनामा - एक मुलाक़ात कार्तिक के साथ

                      
एक मुलाक़ात कार्तिक के साथ 


प्यार का पंचनामा की केवल आपकी जोड़ी ही 'प्यार का पंचनामा ' में भी हैं। अपनी कौन सी खूबी देख रहे हैं ?
- 'प्यार का पंचनामा ' में भी बने रहने का कारण ये हो सकता है की पार्ट में ऑन स्क्रीन हमारी केमिस्ट्री लोगों को अच्छी लगी थी।पहले पार्ट में मेरा एक लम्बा मोनोलॉग था , जिसे लोगों ने   बहुत पसंद किया था। इस फिल्म में भी ऐसा कुछ है , तो हो सकता है लव सर सोचें हों कि यही बंदा अच्छा रहेगा। इस तरह कई कारण हो सकते हैं , जिससे उनको लगा हो कि हमारी जोड़ी पार्ट को बढ़ावा देगी। उनकी दूसरी फिल्म 'आकाशवाणी' में भी हम थे। तो शायद बतौर कलाकार हमने उनका कुछ विश्वास हासिल कर लिया है। केवल एक -दो को छोड़कर बाकी पूरी टीम वही है।

 'प्यार का पंचनामा ' को लेकर कितनी जिम्मेदारी महसूस कर रहे हैं ?
- एक एक्टर के रूप में मैं अपनी हर फिल्म को पहली फिल्म की तरह लेता हूँ।  'प्यार का पंचनामा ' के नैरेशन के समय ये ख्याल आया था कि यार ये पहले वाली से कितनी अलग होगी या लोग इसमें पहले वाली कौन सी बात ढूंढेंगे। लेकिन उसी समय ये क्लीयर हो गया था कि यह रिपीट फिल्म नहीं है। जब आप किसी अच्छी फिल्म का हिस्सा होते हैं तो एक आत्मविश्वास जाता है और ऐसी सोच जाती है कि फिल्म की कमाई का रिजल्ट चाहे जो हो मुझे ख़ुशी है कि मैंने अच्छी फिल्म की है। ऐसे में जिम्मेदारी या तनाव वाली कोई बात नहीं है। ट्रेलर से मिले रिस्पॉन्स से मुझे ऐसा लगा है कि लोगों में 'प्यार का पंचनामा ' देखने की इच्छा है। 

आपका किरदार क्या है ?
- मुझे सब गोगो बुलाते हैं , असल नाम तो अंशुल है  स्ट्रांग कैरेक्टर है। गोगो आत्मविश्वासी और स्पष्ट ख्यालात का मस्तीखोर है। तीन दोस्तों में ठाकुर जिम्मेदार है, तो गोगो को कुछ पड़ी नहीं है , वह अच्छा कमा रहा है , उसके पास अच्छी गाड़ियां हैं।  लेकिन जब वह एक रिलेशनशिप में पड़ता है.तो उसके साथ उस रिश्ते के कारण क्या -क्या अन्याय होता है। उसे दोस्तों के साथ मस्ती के लिए समय नहीं मिल रहा है और उसकी गर्ल फ्रेंड क्या -क्या उसे सिखाती है। यही सब है।

बीटेक की पढाई के बीच अभिनय का निर्णय लेते समय दिल और दिमाग के बीच लड़ाई भी हुई होगी ?
- फिल्म  लाइन से मेरा दूर -दूर तक नाता नहीं हैं। मेरे माता - पिता दोनों डॉक्टरहैं  मैं एक्टर की ज़िन्दगी के बारे में सोचा करता था कि वे कैसे रहते होंगे। १० वीं में था जब पहली बार एक्टर बनने का ख्याल आया। लेकिन किसी को बताया नहीं। मेरे लिए दो ही रास्ते थे डॉक्टर या इंजीयरिंग। क्योंकि मेरे दोनों भाई इसी लाइन में हैं। मैं इंजीयरिंग की तैयारी का कह कर दिल्ली गया और ऑडिशन भी ढूंढता रहा। मुंबई जाने का रास्ता बनाया और नवी मुंबई के एक कॉलेज में बी टेक में एडमिशन ले लिया। यहाँ एक्टिंग क्लासेस भी गया। फेसबुक पर मैंने एक कॉस्टिंग डायरेक्टर से संपर्क किया और ऑडिशन दिया और सेलेक्ट हो गया। उसके बाद मैंने ये बात मम्मी को बताई तो कुमार जी के ऑफिस में मेरी मम्मी और मौसी के साथ मेरी मीटिंग हुई। वो लोग मम्मी को मेरा ऑडिशन दिखा गर्व करा रहे थे।  लेकिन मम्मी और मौसी एक - दूसरे को देख रही थीं। दोनों शॉक्ड थीं। फिर मम्मी ने कहा कि तेरी इच्छा है तो कर ले